इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की अंतिम तारीख क्या है?

जिनके खातों को ऑडिट करने की जरूरत नहीं है, उनके लिए वित्त वर्ष 2018-19 का आईटीआर फाइल करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई, 2019 है.

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की अंतिम तारीख क्या है?
income tax

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की अंतिम तारीख क्या है?

क्या आप अलग-अलग श्रेण‍ी के करदाताओं के लिए इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करने की अंतिम तारीख के बारे में जानते हैं? दरअसल, जिनके खातों को ऑडिट करने की जरूरत नहीं है, उनके लिए वित्त वर्ष 2018-19 का आईटीआर फाइल करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई, 2019 है. इनमें सामान्‍य लोग यानी इंडिविजुअल टैक्सपेयर और हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) शामिल हैं.

कंपनी और फर्म के वर्किंग पार्टनर जैसे अन्य श्रेणी के करदाताओं के लिए 31 जुलाई की समयसीमा लागू नहीं है. यहां हम विभिन्न श्रेणियों के करदाताओं के लिए आईटीआर फाइल करने की अंतिम तारीख के बारे में बता रहे हैं.

यह भी जानिए : इनकम टैक्स रिटर्न क्या है, जानिए पूरा |

टैक्सपेयर समयसीमा
ऐसे सभी व्यक्ति जिनके खातों को ऑडिट करने की जरूरत नहीं है (इंडिविजुअल, एचयूएफ, व्यक्तियों का संगठन, व्यक्तियों की संस्था इत्यादि) 31 जुलाई
जिनके खातों को ऑडिट करने की जरूरत है

-कंपनी
-ऐसे व्यक्ति या संस्थाएं जिनके खातों को ऑडिट करने की जरूरत है (जैसे प्रॉपराइटरशिप, फर्म इत्यादि)
-फर्म के वर्किंग पार्टनर
30 सितंबर
ऐसे करदाता जिन्हें सेक्शन 92ई के तहत रिपोर्ट देने की जरूरत पड़ती है 31 जुलाई



क्या है आकलन वर्ष?


इनकम टैक्स रिटर्न की फाइलिंग में अक्सर आकलन वर्ष (Assesment Year) का जिक्र आता है. यह वह वर्ष होता है, जिसमें आप रिटर्न फाइल करते हैं. गुजरे वित्त वर्ष की कमाई का आकलन एसेसेमंट ईयर में किया जाता है. उदाहरण के लिए 2018-19 के लिए आकलन वर्ष 2019-20 होगा.

समय सीमा चूकने पर क्या होगा?आइये जानते है 


इंडिविजुअल टैक्सपेयर 31 जुलाई, 2019 तक आईटीआर नहीं फाइल कर पाते हैं तो भी उनके पास रिटर्न फाइल करने का मौका होगा. इसे बिलेडेट ITR कहा जाता है. वित्त वर्ष 2018-19 के लिए बिलेटेड आईटीआर फाइल करने की अंतिम तारीख 31 मार्च, 2020 है. यह समयसीमा चूक जाने पर आप तब तक आईटीआर फाइल नहीं कर सकेंगे जब तक टैक्स विभाग से नोटिस नहीं मिलता है.

भले ही बिलेटेड आईटीआर फाइल करने की समयसीमा 31 मार्च तक हो, लेकिन इससे बचना चाहिए. कारण है कि 31 जुलाई के बाद आईटीआर फाइल करने पर लेट फाइलिंग फीस लागू होगी.

आईटीआर देर से फाइल करने पर कितनी पेनाल्टी?


समयसीमा के बाद आईटीआर फाइल करने पर पेनाल्टी का एलान बजट 2017 में हुआ था. ये नियम आकलन वर्ष 2018-19 से लागू हो गए थे.

यह है देर से रिटर्न फाइल करने की फीस का स्ट्रक्चर

ITR फाइलिंग की तारीख फीस
31 जुलाई के बाद लेकिन 31 दिसंबर से पहले 5,000 रुपये
1 जनवरी और 31 मार्च के बीच 10,000 रुपये


यह भी जानिए : इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करते समय क्या सावधानी रखें ?


जिन करदाताओं की कुल इनकम 5 लाख रुपये से ज्यादा नहीं है, उनके लिए अधिकतम लेट फीस 1,000 रुपये से ज्यादा नहीं होगी.

याद रखें कि अगर किसी की ग्रॉस टोटल इनकम बेसिक एक्जेम्प्शन लिमिट से ज्यादा नहीं है तो उसे लेट फाइलिंग फीस नहीं देना होगा. मौजूदा आयकर कानूनों के अनुसार, बेसिक एक्जेम्प्शन लिमिट इस तरह है:

करदाता की उम्र बेसिक एक्जेम्प्शन (रुपये)
60 साल से कम 2,50,000
60 साल से ज्यादा पर 80 साल से कम 3,00,000
80 साल से ज्यादा

5,00,000

अगर आपने इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल नहीं किया है तो आज यानी शनिवार (31 अगस्त) आखिरी मौका है. इसके बाद रिटर्न भरने पर आपको पेनाल्टी देना पड़ेगा. पिछले वित्त वर्ष से सरकार ने इनकम टैक्स रिटर्न समयसीमा के अंदर नहीं भरने पर काफ ज्यादा पेनाल्टी लगाने का नियम बनाया है.

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने साफ किया है कि इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) दाखिल करने की अंतिम तारीख में कोई बदलाव नहीं हुआ है. यह 31 अगस्त 2019 ही है. करदाताओं को इस समयसीमा में अपना रिटर्न फाइल करना चाहिए. सोशल मीडिया में आईटीआर फाइल करने की मियाद बढ़ने की खबर अफवाह है. सीबीडीटी ने शुक्रवार को अपने ट्विटर हैंडल पर यह जानकारी दी.इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की अंतिम तारीख को लेकर सोशल मीडिया पर एक झूठा मैसेज तेजी से वायरल हो रहा था. इसके बाद सीबीडीटी ने इस बारे में स्थिति स्पष्ट की.

इनकम टैक्स रिटर्न ऐसे सभी लोगों को भरना जरूरी है जिनकी सालाना इनकम 2,50,000 रुपये से ज्यादा है. अगर इनकम इससे कम है तो भी आप अपनी स्वेच्छा से रिटर्न भर सकते हैं. इसमें कोई दिक्‍कत नहीं है.

आईटीआर नहीं भरा तो क्या होगा? ये जानते  है 


आईटीआर नहीं भरने पर तीन महीने से दो साल तक की जेल हो सकती है. अगर इनकम टैक्स का बकाया 25 लाख रुपये से ज्यादा है तो 7 साल तक की जेल हो सकती है.

किन दस्तावेजों की होगी जरूरत


1-पैन
2-आधार
3-बैंक अकाउंट का विवरण
4-फॉर्म 16
5-निवेश का ब्योरा


कैसे फाइल करें आईटीआर? चलिये जान  लेते है 


1-आईटीआर के लिए जरूरी सभी दस्तावेजों के साथ लॉग-इन करें
2-अपना निजी ब्योरा भरें
3-अपनी सैलरी का विवरण दर्ज करें
4-डिडक्शन क्लेम करने के लिए विवरण दर्ज करें
5-चुकाए गए टैक्स को दर्ज करें
6-अपने आईटीआर को ई-फाइल करें
7-ई-वेरिफाई करें

आप इनकम टैक्स विभाग की वेबसाइट https://www.incometaxindiaefiling.gov.in/home   पर लॉग इन करके अपना रिटर्न दाखिल कर सकते हैं परन्तु यदि आपको इनकम टैक्स के विषय में ज्यादा जानकारी नहीं है तो आप कदापि ऐसा न करें क्योंकि गलत जानकारी दर्ज करने पर आपको रिक्टिफिकेशन  फाइल करना पड़ सकता है या इनकम टैक्स से नोटिस भी आ सकती है |

यदि आप एक इनकम टैक्स के बारे में ज्यादा नहीं जानते तो हम मामूली शुल्क में आपका इनकम टैक्स रिटर्न फाइल कर देंगे |
अधिक जानकारी के लिए हमें व्हाट्सऐप करें 7800020060 पर या यहाँ क्लिक करें