संत रविदास शिक्षा सहायता योजना

“संत रविदास शिक्षा सहायता योजना  के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (Online Registration) शुरू हो गए हैं। जो भी राज्य के छात्र छात्रायें इस योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं वो कर सकते हैं। लेकिन दोस्तों आप सोच रहे होंगे इस योजना के लिए कैसे आवेदन करना हैं तो आपको परेशान होने की जरुरत नहीं हैं। हम आपको अपने इस आर्टिकल में बताएँगे कि कैसे आवेदन करना हैं ? इसके लिए क्या योग्यता होगी

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
Uttar Pradesh Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना उत्तर प्रदेश   क्या है 

उत्तर प्रदेश वासियों आप लोगों को ये जानकर प्रसन्नता होगी कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने “संत रविदास शिक्षा सहायता योजना (Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana)” को शुरू किया हैं। यह योजना उत्तर प्रदेश श्रमिक विभाग (Labor Department) के द्वारा मजदूर दिवस पर श्रमिकों के बच्चों के लिए शुरू की गई है। इस योजना का उद्देश्य राज्य के श्रमिकों के बच्चों को छात्रवृति प्रदान करना हैं।


“संत रविदास शिक्षा सहायता योजना (Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana)” के अंतर्गत प्रथम कक्षा लेकर से उच्च कक्षाओं में पढ़ने वाले विद्यार्थी इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस योजना के तहत 01 से 12वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के साथ ही राजकीय आइटीआइ (ITI) और राजकीय पालीटेक्निक (Polytechnic) के विद्यार्थियों को भी शामिल किया गया हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने अब इस योजना को महाविद्यालयों तक पहुंचा दिया है। अब नई व्यवस्था के अंतर्गत स्नातक और स्नातकोत्तर (Graduate and Post Graduate) के छात्र छात्राओं को भी इस योजना का लाभ दिया जाएगा।


इस वित्तीय सहायता योजना के तहत स्नातक और स्नातकोत्तर कक्षाओं के सभी छात्र इस शिक्षा सहायता योजना का लाभ उठा प्राप्त कर सकते हैं। इस योजना से अभी तक इंटरमीडिएट, स्टेट आईटीआई, स्टेट पॉलीटेक्निक कॉलेज के छात्र- छात्राओं को संत रविदास शिक्षा सहायता योजना का लाभ मिला है।
उत्तर प्रदेश में मजदूरों के बच्चे इस योजना में ऑनलाइन पंजीकरण करके छात्रवृति योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। राज्य में ऐसे बहुत से श्रमिकों के बच्चे हैं जो गरीबी के कारण उच्च शिक्षा प्राप्त नहीं कर सकते हैं और ये अपना दैनिक खर्च (Daily Expenses) और पढाई के लिए किताबें लेने में असमर्थ हो जाते हैं। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा अब उत्तर प्रदेश सरकार इन श्रमिकों के बच्चों को वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। जिससे ये बच्चे भी उच्च शिक्षा प्राप्त कर सके। इस योजना के लिए वही छात्र छात्रायें पात्र होंगे जो केंद्र या राज्य सरकार से मान्यता प्राप्त शिक्षा संस्थानों में अध्यनरत होंगे।


“संत रविदास शिक्षा सहायता योजना  के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (Online Registration) शुरू हो गए हैं। जो भी राज्य के छात्र छात्रायें इस योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं वो कर सकते हैं। लेकिन दोस्तों आप सोच रहे होंगे इस योजना के लिए कैसे आवेदन करना हैं तो आपको परेशान होने की जरुरत नहीं हैं। हम आपको अपने इस आर्टिकल में बताएँगे कि कैसे आवेदन करना हैं ? इसके लिए क्या योग्यता होगी ? 

आइये जाने संत रविदास शिक्षा सहायता योजना का उद्देश्य क्या है 

उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड (Construction Workers Welfare Board) के अन्तर्गत उत्तर प्रदेश राज्य के मूल निवासी पंजीकृत निर्माण श्रमिक को श्रमिकों के 25 वर्ष अथवा उससे कम के पुत्र / पुत्रियों जो उत्तर प्रदेश की भौगोलिक सीमा (Geographic Range) में स्थित कक्षा 12 तक अथवा देश के बाहर की सीमा में स्थित किसी विद्यालय किसी भी कक्षा में अध्ययनरत हो, उनकी शिक्षा पर होने वाले व्यय उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रतिपूर्ति किया जाना है।
इसके अन्तर्गत सभी पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के पुत्र / पुत्रियों जो किसी शासकीय / अद्र्यशासकीय / शासकीय मान्यता प्राप्त निजी विद्यालयों (Private School) में अध्ययनरत् हों, उनके बारे में किये जा रहे व्यय का वहन उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा किये जाने हेतु प्रतिमाह छात्रवृत्ति (Scholarship Per Month) दिया जाना प्रस्तावित है।
इस योजना के अन्तर्गत निर्माण श्रमिक के अधिकतम दो संतान को कक्षा 01 से प्रारम्भ कर उच्चतर संत रविदास शिक्षा सहायता निम्न शर्तों के अधीन मासिक दी जाएगी

 आइये जाने संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए 

  •  इस योजना के लिए वे बच्चे योग्य हैं जिनके माता- पिता बोर्ड में पंजीकृत निर्माण कर्मचारी हो। 
  •  इस योजना का लाभ लेने वाला पंजीकृत निर्माण कर्मकार व्यक्ति उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए। 
  • “संत रविदास शिक्षा सहायता योजना (Sant Ravidas Shiksha Shayata Yojana)” का लाभ प्राप्त करने वाले छात्र एवं छात्रा की आयु प्रत्येक वर्ष की 01 जुलाई को 25 वर्ष या इससे कम होनी चाहिए। 
  • योजना के तहत शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्र / छात्रा ऐसे शिक्षण संस्थान में अध्ययनरत् होनी चाहिए जो कि सरकार द्वारा मान्य रूप से स्थापित किसी शिक्षा बोर्ड द्वारा मान्यता प्राप्त होना चाहिए। 
  • इस योजना के तहत पंजीकृत निर्माण मजदूरों के अधिकतम 02 बच्चों को कक्षा 01 से लेकर उच्चतम शिक्षा प्राप्त करने हेतु छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। 
  • इस योजना के अंतर्गत श्रमिकों के बच्चों को महीने में मिलने वाली आर्थिक सहायता राशि निम्नलिखित है। 
    A. कक्षा 01 से 05 तक 100 रूपये प्रतिमाह
    B.  कक्षा 06 से 08 तक 150 रूपये प्रतिमाह
    C. कक्षा 09 से 10 तक 200 रूपये प्रतिमाह
    D. कक्षा 11 से 12 तक 250 रूपये प्रतिमाह
    E. शासकीय संस्थाओं में आई०टी०आई० (ITI) अथवा समकक्ष प्रशिक्षण से सम्बन्धित पाठ्यक्रमों हेतु 500 रूपये प्रतिमाह
    F. शासकीय संस्थाओं में पालीटेक्निक (Polytechnic) अथवा समकक्ष पाठ्यक्रमों हेतु 800  रूपये प्रतिमाह
    G. शासकीय संस्थाओं में इंजीनियरिंग (Engineering) अथवा समकक्ष पाठ्यक्रमों हेतु 3000 रूपये प्रतिमाह
    H. शासकीय संस्थाओं में मेडिकल कोर्स (Medical Course) के पाठ्यक्रमों हेतु 5000 रूपये प्रतिमाह

  • इस योजना के तहत इंजीनियरिंग व मेडिकल के लिए स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त करने हेतु 8,000 हजार रूपये व किसी भी अन्य विषय में खोज करने हेतु 12,000 हजार रूपये प्रतिमाह दिए जायेंगे, तथा आयु सीमा 25 वर्ष ही रहेगी और अधिकतम आयु सीमा 35 वर्ष होगी।
  • “संत रविदास शिक्षा सहायता योजना (Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana)” के अन्तर्गत लाभ प्राप्त करने हेतु न्यूनतम 60 प्रतिशत की उपस्थिति होनी चाहिए जो शिक्षा संस्थान के प्रधानाचार्य व सक्षम अधिकारी के द्वारा प्रमाणित होने पर ही देय होगी।
  • शिक्षा सहायता योजना के तहत श्रमिकों से एक घोषणा पत्र प्राप्त किया जायेगा जिसमें वह समकक्ष किसी अन्य छात्रवृत्ति का लाभ प्राप्त नहीं कर रहे हो, इसके आधार पर ही इन मजदूरों को इस योजना का लाभ दिया जायेगा। 
संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लाभ क्या क्या है आइये जान लेते है  

  1. इस योजना के तहत लाभार्थी छात्र / छात्रा को तिमाही आधार पर भुगतान किया जायेगा, तथा पहली किस्त का भुगतान कक्षा में प्रवेश लेने के बाद किया जायेगा।
  2. यदि कोई छात्र / छात्रा वार्षिक परीक्षा में फेल हो जाते है और उसी कक्षा में दोबारा पढ़ाई करते है तो उन छात्र / छत्राओं को छात्रवृत्ति नहीं दी जाएगी। 
  3. “संत रविदास शिक्षा सहायता योजना (Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana)” के अंतर्गत आई०टी०आई० / पालीटेक्निक / इंजीनियरिंग की डिग्री केवल उन्हीं छात्र / छात्राओं  के लिए मान्य होगी जो शासकीय आई०टी०आई० / पालीटेक्निक, इंजीनियरिंग कालेजों / मेडिकल कालेज एवं प्रबन्धन कालेज में प्रवेश प्राप्त करेंगें तथा इनके प्रमाण स्वरूप उन्हें प्रवेश कार्ड तथा शुक्ल की रसीद (Entrance Card and Receipt of Shukla) अवश्य संलग्न करनी होगी। 
  4. इस योजना के तहत व्यवसायिक पाठ्यक्रमों (Business Courses) में योग्यता तभी मान्य होगी जब विद्यार्थियों ने राष्ट्रीय या राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करके शासकीय संस्थान में प्रवेश लिया हो।  
  5. इस योजना के अन्तर्गत चिकित्सा में डिग्री का अर्थ एम०बी०बी०एस० (MBBS) अथवा बी०डी० एस० (Bachelor in Dental Science) अथवा बी०ए०एम०एस० (BAMS) अथवा बी०एच०एम०एस०(BHMS) / बी०यू०एम०एस० (BUMS) होगा। यह हितलाभ उन्हीं छात्र ⁄ छात्राओं को देय होगा जो शासकीय चिकित्सा कालेजों (Government Medical Colleges) में अध्ययनरत होगें।
 चलिए जान लेते है संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज 
  1. आधार कार्ड की फोटो कॉपी 
  2. पासपोर्ट साइज की फोटो कॉपी 
  3. आय प्रमाण पत्र 
  4. स्कूल का प्रमाण पत्र 
  5. बैंक पासबुक की फोटो कॉपी 

आइये जाने  संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन  कैसे करे 

दोस्तों यदि आप “संत रविदास शिक्षा सहायता योजना (Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana)” के लिए ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले राज्य की इस ऑफिसियल वेबसाइट (Official Website) पर क्लिक करना होगा।

यहाँ क्लिक करें >>> Click Here

@} इस लिंक पर क्लिक करने के बाद “श्रम विभाग उत्तर प्रदेश सरकार (Labor Department Uttar Pradesh Government)” का होम पेज खुल जायेगा। यहाँ आप आपको “अधिनियम प्रबंधक प्रणाली (Act Manager System)” के विकल्प पर क्लिक करना होगा। 

@}  अब आपके सामने “लेबर एक्ट मैनेजमेंट सिस्टम (Labour Act Management System)” का पेज खुल जायेगा। यहाँ पर आपको न्यू रजिस्ट्रेशन (New Ragistration) के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

@}  अब आपके सामने एक फॉर्म खुल जायेगा इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारियों को दर्ज करें और अपना यूजर-आईडी (User Name) और पासवर्ड (Password) बनाएं। 

@} अब अपना यूजर आईडी और पासवर्ड लॉगिन (Login) करें। 
@} अब आपको अगले पेज पर संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए आवेदन फॉर्म (Application Form) प्राप्त होगा। इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारियों को ध्यान पूर्वक दर्ज करें। 
@} आवेदन फॉर्म भरने के बाद सबमिट बटन (Submit Button) पर क्लिक करें। इस तरह से आप का फॉर्म भरा हुआ माना जायेगा। 

 चलिए देखे संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए ऑफलाइन आवेदन कैसे करे  

इस योजना के लिए ऑफलाइन आवेदन भी किया जा सकता हैं, इसके लिए लाभार्थी व्यक्ति या उसके परिवार के किसी सदस्य की तरफ से शिक्षा सहायता प्राप्त करने हेतु लाभार्थी के पुत्र या पुत्री से संबंधित कक्षा में प्रवेश संबंधी विवरण के अनुसार उत्तीर्ण होने की तिथि से 01 वर्ष के अंदर निकटतम श्रम कार्यालय या तहसीलदार कार्यालय (Labor Office or Tehsildar’s Office) अथवा विकास अधिकारी कार्यालय में निर्धारित प्रपत्र पर संबंधित विद्यालय के प्रधानाचार्य से प्रमाणित फोटोयुक्त आवेदन पत्र (Certified Photo Application Form) की दो प्रतियों में प्रस्तुत किया जाएगा, जिसकी पावती आवेदक को प्रार्थना पत्र प्राप्त करने वाले अधिकारी या कर्मचारी द्वारा प्राप्ति तिथि अंकित करते हुए ऑनलाइन उपलब्ध कराई जाएगी।
“संत रविदास शिक्षा सहायता योजना (Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana)” के बारे में अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें।